VAISHALI RAI

I bring myself to this hidden creek

My beautiful creek

With the thoughts noisier than the waterfall

Only to cut down new paths to flow

And to travel this journey

Of how far this creek actually goes.

Recent Posts

सफ़र-ए-जिन्द़गी

इन रास्तों में अलग ही अपनापन सा लगता हैआज़ादी की एक अलग खुशबू-सी लगती हैइस शीशे की खिड़की पर सिर टिका केबीती हुई बातों को फिर से जी लेती हूंबिना किसी गिनती के और आने वाले पलों को अपने हिसाब से बुन लेती हूंअच्छी बुरी सब बातेंशायद, अच्छी से ज़्यादा बुरी बातेंजिनको सोच के डर … Continue reading सफ़र-ए-जिन्द़गी

More Posts